May 19, 2024

UKND

Hindi News

Dgp Ashok Kumar ने डीआरडीओ के पूर्व वैज्ञानिक ओ.पी. मिनोचा की पुस्तक “साइबर एनकाउंटर्स” का हिन्दी संस्करण आज लॉन्च किया

साइबर अपराध की बढ़ती चुनौतियों को रोचक अंदाज में समझाती Dgp Ashok Kumar ने डीआरडीओ के पूर्व वैज्ञानिक ओ.पी. मिनोचा की पुस्तक “साइबर एनकाउंटर्स” का हिन्दी संस्करण आज लॉन्च हो गया है। देहरादून के सेंट जोसेफ अकादमी सभागार में आयोजित समारोह में माननीय मुख्यमंत्री श्री Pushkar Singh Dhami जी ने “साइबर एनकाउंटर्स” पुस्तक के हिंदी संस्करण का विमोचन किया। इस अवसर पर पूर्व डीजीपी श्री अनिल के. रतूड़ी, दून विश्वविद्यालय की कुलपति प्रो. सुरेखा डंगवाल सहित शहर के तमाम शिक्षाविद और गणमान्य लोग उपस्थित रहे।

माननीय मुख्यमंत्री जी ने लेखकों को बधाई देते हुए कहा कि “साइबर एनकाउंटर्स” पुस्तक गागर में सागर भरने का कार्य कर रही है। साइबर क्राइम आज के समय की बड़ी चुनौती है और प्रदेश के एक वरिष्ठ अधिकारी द्वारा इस चुनौती के सम्बन्ध में जनता को जागरूक करना इस पुस्तक की प्रासंगिकता को बढ़ा देता है। उन्होने कहा कि उत्तराखण्ड पुलिस साइबर क्राइम से निपटने में बहुत अच्छा काम कर रही है और देश के कोने कोने से साइबर अपराधियों को गिरफ्तार कर जेल भेज रही है। यह पुस्तक साइबर क्राइम से संबंधित जागरूकता संदेश को जन-जन तक पहुंचाएगी।

“साइबर एनकाउंटर्स” के बारे में बताते हुए DGP Sir ने कहा कि तेजी से बदलती टेक्नॉलाजी के कारण पूरा जीवन आनलाइन हो गया है। लेकिन साथ ही साइबर अपराध के खतरे भी बढ़ते जा रहे हैं। अपराधी सैकड़ों मील दूर बैठा होता है और कई बार उस तक पहुंचना मुश्किल होता है। जिस तेजी से साइबर अपराध का ग्राफ बढ़ रहा है, उनसे निपटना पुलिस के लिए भी बड़ी चुनौती है। साइबर क्राइम से आम जनता को जागरुक करने के मकसद से “साइबर एनकाउंटर्स” पुस्तक लिखने का विचार उनके मन में आया। साइबर अपराधी कैसे ऑपरेट करते हैं और लोग उनके जाल में कैसे फंसते हैं, इन बातों को पुस्तक के जरिए सरल भाषा और दिलचस्प अंदाज में समझाने का प्रयास किया गया है। “साइबर एनकाउंटर्स” पुस्तक साइबर अपराधियों द्वारा इस्तेमाल किए जाने वाले हथकंडों से आम जनता को जागरुक कराने में मददगार हो सकती है। इसमें साइबर क्राइम से जुड़े 12 आपराधिक मामलों के एनकाउंटर की कहानी के माध्यम से बचाव के टिप्स दिए गये हैं।

#cyberencounters