May 21, 2024

UKND

Hindi News

कोटद्वार-लालढांग हरिद्वार रोड पर मालिनी नदी में बना पुल तेज बहाव के कारण क्षतिग्रस्त

उत्तराखंड में पिछले तीन दिनों से हो रही बारिश से आम जन जीवन प्रभावित हुआ है। भारी बारिश के चलते मैदानी इलाकों में जलभराव, जबकि पहाड़ी क्षेत्रों में भूस्खलन के चलते लोगों को दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। कोटद्वार-लालढांग हरिद्वार रोड पर मालिनी नदी में बना पुल तेज बहाव के कारण क्षतिग्रस्त हो गया है। इस पुल के टूटने से सिडकुल और भाबर का कोटद्वार से संपर्क कट गया है, जिसके चलते लगभग 50 हजार आबादी का कोटद्वार मुख्यालय से सम्पर्क टूट गया है। उधर, हरिद्वार में आज सुबह रेलवे ट्रैक पर पहाड़ी से मलबा आने से रेलमार्ग बाधित रहा। इससे कई रेल गाड़िया प्रभावित हुईं। इस बीच, मौसम विभाग का कहना है कि राज्य में आने वाले दिनों में भी बारिश का दौर जारी रहेगा। मौसम विज्ञान केंद्र, देहरादून ने कल चंपावत, नैनीताल और उधमसिंह नगर में भारी से बहुत भारी बारिश होने की चेतावनी दी है। विभाग ने राज्य के अन्य हिस्सों में भी कहीं-कहीं- भारी बारिश होने की संभावना जताई है। इसके मद्देनजर कल और परसों राज्य के सभी स्कूल और आगनबाड़ी केंद्र बंद रखने का निर्णय लिया गया है। उधर, राज्य आपतकालीन परिचालन केंद्र के अनुसार बारिश और भूस्ख्लन की घटनाओं में 10 जुलाई से अबतक 17 लोगों की मृत्यु हो गयी, जबकि 18 लोग घायल हुए हैं। वहीं 14 आवासीय भवन पूरी तरह से क्षतिग्रस्त हो गए। वहीं पर्वतीय क्षेत्रों में लगभग 2 सौ ग्रामीण अवरूद्ध सड़कों को खोलने का प्रयास जारी है। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी प्रदेश में बारिश और आपदा पर लगातार नजर रख रहे हैं। आज उन्होंने हरिद्वार में जलभराव वाले क्षेत्रों का स्थलीय निरीक्षण किया और अधिकारियों को राहत और बचाव कार्यों में तेजी लाने के निर्देश दिये। हरिद्वार जिले के लक्सर और रूड़की बारिश से सबसे ज्यादा प्रभावित हैं। आपदा सचिव रंजीत सिन्हा ने बताया कि प्रभावित क्षेत्रों में राहत और बचाव कार्य किया जा रहा है। साथ ही जरूरत की सामग्री उपलब्ध कराने को व्यवस्था की गई है। वहीं आवश्यकता पड़ने पर हेलीकॉप्टर भी स्टैंड बाय पर रखा गया है। पानी निकासी के भी प्रयास किये जा रहे हैं। उधर, बागेश्वर जिले के गरुड़ तहसील में अतिवृष्टि से चार मकान ध्वस्त हो गए हैं और 14 लोग बेघर हो गए हैं। मलबे में एक बैल भी दबने की सूचना है। जिला प्रशासन प्रभावितों को सहायता प्रदान करने में जुट गया है। चम्पावत जिले में भी बारिश जारी है। जिलाधिकारी ने लोगों से अनुरोध किया है कि वे अनावश्यक यात्रा करने से बचे और नदी नालों के साथ ही बिजली के खंभों से दूरी बनाए रखें।